Twitter Group (Join Now) Join Now
Telegram Group (Join Now) Join Now

Aditya-L1 Mission: चाँद के बाद अब सूरज पर जायेगा ISRO, शेयर की बेहतरीन तस्वीरें

Aditya-L1 Mission: चाँद के बाद अब सूरज पर जायेगा ISRO, शेयर की बेहतरीन तस्वीरें। Aditya-L1, सूर्य का अध्ययन करने के लिए पहला भारतीय अंतरिक्ष आधारभूत उपग्रह, लॉन्च के लिए तैयार हो रहा है। इसरो ने अपने ट्विटर हैंडल ये जानकारी दी है। आइये हम इसे थोड़े विस्तार से जानते है की ISRO ने Aditya-L1 के बारे में क्या कहा।

Aditya-L1 ISRO
Aditya-L1 ISRO                                                                 इमेज क्रेडिट : ISRO

ISRO उपग्रह तैयारी में आगे बढ़ता हुआ

यह उपग्रह यू आर राव सैटेलाइट सेंटर (यूआरएससी), बेंगलुरु में बनाया गया है और इसकी तैयारी श्रीहरिकोटा के श्रीहरिकोटा सत्यद्रुढ केंद्र (एसडीएससी-शार) में की जा रही है। यह उपग्रह सूर्य की प्रकृति, उसके तापमान और उसके विभिन्न पहलुओं का अध्ययन करने के लिए डिज़ाइन किया गया है।

Aditya-L1
Aditya-L1                                          इमेज क्रेडिट : ISRO

अद्यतन स्थिति

उपग्रह का निर्माण पूरी तरह से हो चुका है और यह अब श्रीहरिकोटा के सत्यद्रुढ केंद्र में पहुँच चुका है। इसके प्रमुख उद्देश्यों में से एक है सूर्य की ऊर्जा के उत्सर्जन की प्रक्रिया को समझने का अध्ययन करना, जिससे हम धूप के उत्सर्जित विकिरण की महत्वपूर्ण जानकारी प्राप्त कर सकें।

उपग्रह की विशेषताएँ

Aditya-L1 उपग्रह का निर्माण भारतीय अंतरिक्ष अनुसंधान संगठन इसरो के तत्वावधान में किया गया है। इसका वजन लगभग 4000 किलोग्राम है और यह उपग्रह बैठकरी नामक उपग्रह पर आधारित है। इसके सोलर पैनल से यह उपग्रह अपनी ऊर्जा आपूर्ति प्राप्त करेगा, जिससे यह धूप की किरणों को अध्ययन करने के लिए लम्बे समय तक उपयुक्त रहेगा।

लॉन्च की तारीख

Aditya-L1 का लॉन्च पीएसएलवी-सी57 रॉकेट के माध्यम से होगा, जिसे इसरो केंद्रीय अद्यतन सेंटर से प्राप्त डेटा के आधार पर तैयार किया गया है। इस मिशन की सफलता से हम धूप के रहस्यमय और महत्वपूर्ण पहलुओं को अन्धकार से बाहर लाने की उम्मीद कर सकते हैं।

Aditya-L1
Aditya-L1 इमेज क्रेडिट : ISRO

निष्कर्ष

भारतीय अंतरिक्ष अनुसंधान में आदित्य-एल1 मिशन एक महत्वपूर्ण कदम है जो सूर्य के रहस्यमयी तथ्यों को समझने में मदद करेगा। यह मिशन हमें धूप की अद्भुतता और ऊर्जा के संवाहक तंत्र के बारे में नई जानकारी प्रदान कर सकता है।

अकेले सवाल (FAQs)

  1. क्या आदित्य-एल1 उपग्रह सूर्य की किरणों का अध्ययन करेगा? जी हां, आदित्य-एल1 उपग्रह सूर्य की किरणों के विभिन्न पहलुओं का अध्ययन करने के लिए डिज़ाइन किया गया है।
  2. कैसे पीएसएलवी-सी57 रॉकेट के माध्यम से इसका लॉन्च होगा? आदित्य-एल1 उपग्रह का लॉन्च पीएसएलवी-सी57 रॉकेट के माध्यम से किया जाएगा, जिसे इसरो केंद्रीय अद्यतन सेंटर द्वारा तैयार किया गया है।
  3. आदित्य-एल1 मिशन का मुख्य उद्देश्य क्या है? आदित्य-एल1 मिशन का मुख्य उद्देश्य सूर्य की ऊर्जा के उत्सर्जन की प्रक्रिया को समझने का अध्ययन करना है।
  4. उपग्रह का वजन क्या है और कितने प्रकार का है? आदित्य-एल1 उपग्रह का वजन लगभग 4000 किलोग्राम है और यह बैठकरी नामक उपग्रह पर आधारित है।
  5. क्या आदित्य-एल1 मिशन के लॉन्च की तारीख तय हो चुकी है? हां, आदित्य-एल1 मिशन के लॉन्च की तारीख पीएसएलवी-सी57 रॉकेट के माध्यम से होने की योजना है, जिसकी तारीख इसरो केंद्रीय अद्यतन सेंटर द्वारा तय की जाएगी।
Spread the love

3 thoughts on “Aditya-L1 Mission: चाँद के बाद अब सूरज पर जायेगा ISRO, शेयर की बेहतरीन तस्वीरें”

Leave a Comment

Vivo Y78 (t1) & Vivo Y78m (t1) 12GB रैम, 50MP कैमरा के साथ लॉन्च, जानें कीमत Dussehra 2023: 23 या 24 अक्टूबर कब मनाई जाएगी विजयादशमी, जान लें सही डेट Surya Grahan 2023: सूर्य ग्रहण के दौरान ना करें ये गलती 17 अक्टूबर तक इन राशियों का पलटेगा भाग्य, राजयोग का है योग अवनीत कौर ने इंस्टाग्राम पर लगाया ग्लैमर का तड़का, देखें फोटोज अवनीत कौर रोम शहर की गलियों में धूप का मजा लेते हुए फोटोज क्लिक करवाती नजर आई Vivo V29: हो गया लांच जाने स्पेसिफिकेशन्स और प्राइस Ram Charan Spotted At Airport: एक बार फिर नंगे पैर दिखें राम चरण Fukrey 3 Box Office Collection Day 6: बॉक्स ऑफिस पर Fukrey 3 का कब्जा Tiger Nageswara Rao Hindi Trailer: का धमाकेदार ट्रेलर हुआ रिलीज, फुल ऑन एक्शन अवतार में रवि तेजा